जीम में हुआ कामसूत्र



  • हाय दोस्तों, मेरा नाम शालिनी अग्रवाल हैं और मैं एक मारवाड़ी औरत हूँ. मैं वैसे जयपुर के पास के एक छोटे से गाँव की हूँ लेकिन मेरी शादी यहाँ मैसूर में हुई हैं. मेरी उम्र 29 साल हैं और मैं किसी भी एंगल से सेक्सी हूँ. कोलेज के समय से ही मुझे अपनी फिगर को मेंटेन करना अच्छा लगता था और इसलिए ही मेरी फिगर अभी भी काफी सेक्सी हैं. मेरा शरीर सेक्सी और मेंटेन होने की दूसरी वजह थोड़ी दुःख भरी बात हैं. जी हाँ मुझे एक ही दुःख हैं की मेरा पति मुझ से ज्यादा अपने बिजनेश को प्यार करता हैं. उसका यहाँ मैसूर में ही काफी फैला बिजनेश हैं और वो दोनों हाथों से बटोर रहा हैं. लेकिन उसे यह पता नहीं की असली जिन्दगी में प्यार भी होता हैं, ना की सिर्फ पैसा. और ऐसे ही स्थिति में मुझे मज़बूरी में एक कामसूत्र अपने नाम करना पड़ा. कामसूत्र मेरे और राजकुमार के बिच में हुआ. वो मेरी जिम में फिजिकल इंस्ट्रकटर था.

    मैं थी लंड की प्यासी

    पति की कम चुदाई से तंग थी मैं और टाइम पास के लिए मैंने एक जिम और स्विमिंग स्कुल ज्वाइन कर ली. राजकुमार वहां पे काम करता था. वो शकल से काला हैं लेकिन उसके मजबूत बाजू को देख के कोई भी लड़की चाहेंगी की वो उसे थाम ले. राजकुमार अक्सर मुझे नई नई कसरत की तरकीबें बताता रहता था. उसके बदन से पसीने की वो नमकीन खुशबु मुझे अक्सर लुभाती थी. मैं जानती थी की राजकुमार भी मेरी ट्रेक पेंट पेंट को देख के मेरी मस्त गांड का मुआयना करता था. मैंने आप को बताया नहीं लेकिन मेरी गांड बहुत ही सेक्सी हैं किसी का भी लंड खड़ा कर सकती हैं सिवाय मेरे पति के. मैं भी चाहती थी की राजकुमार मेरे बदन को देखें और उसका लंड उसे मजबूर करें. मैं जब वो मेरे सामने या पास हो तो जानबूझ के झुक झुक के उसे अपने चुंचे दिखाती थी. और उसके सामने ही कभी कभी टी-शर्ट सही कर के उसे अहसास कराती थी की मुझे पता हैं की वो मेरे चुंचे देख रहा था.

    मैं जिम में वैसे सुबह के सेशन में जाती हूँ लेकिन उस दिन मैंने शाम को जाने को सोचा. जिम में देखा की लेडिज सेक्शन में केवल दो लड़कियां थी. यह जिम दो सेक्शन में बंटा हैं लेडिज और जेंट्स. राजकुमार लेडिज सेक्शन में ही होता हैं. मैंने आके अपने हलके डम्बल उठाये और वार्म अप करने लगी. कुछ 10 मिनिट के बाद वो दोनों लड़कियां निकल गई. राजकुमार मेरे पास आया.

    मैं: अरे सर अभी कोई नहीं हैं ऐसा क्यूँ?

    राजकुमार: शाम में लोग कम होते हैं. अभी एक घंटे के बाद 3-4 लोग आयेंगे बस, सारा रश मोर्निंग में होता हैं.

    तभी मेरे दिमाग में एक शैतानी ख़याल आया की क्यूँ ना आज इसके लंड को कामसूत्र के मजे दे दिए जाएँ. मैं जानती थी की वो मुझ में दिलचस्पी रखता था, और मैं तो कब से उस से चुदना चाहती थी. मैंने कहा, “अगर आप मुझे आज वेटलिफ्टिंग बताओ तो अच्छा हैं.”

    वो: जरुर, आओ.

    राजकुमार ने मुझे साइड में लिया और एक बार के ऊपर कम वजन की प्लेट्स लगाने लगा. उसने फिर मुझे वो बार उठाने के लिए कहा.

    राजकुमार: धीरे से इसे उठायें, कमर को झटका दिए बिना. कंधो के पावर से उठायें. सिर्फ 12 किलो का हैं आराम से उठेंगा.

    मैं: आप पीछे मेरी सपोर्ट में रहना ताकि निचे गिरे ना.

    उसे भी जैसे यह करना ही था, उसने मेरे पीछे आके मुझे बार को उठाने में मदद की. मैं उसकी गर्म गर्म सांसो को अपने बदन पे आता हुआ महसूस कर रही थी. उसका लंड मेरे बदन से कुछ 4-5 इंच दूर था. मेरी चूत में और मन दोनों में ही उसका लंड ले लेने की इच्छा और लालच थी. राजकुमार ने बार उपर करने में मेरी मदद की लेकिन अभी भी जैसे उसका लंड मुझ से काफी दूर था. मैंने उसे कहा, “आप और नजदीक आइयें ना मुझे डर लग रहा हैं की कहीं ये गिर न जाएं मुझ पे.”

    वो सच में थोडा आगे आया और पहली बार मुझे लंड की गर्म गर्म हवा का अहसास हुआ. कैसे बताऊँ चूत की दीवारों में जैसे किसी ने घंटी बजा बजा के दस्तक दे दी. वाऊ क्या अनुभव था वो….! राजकुमार भी अब थोडा खुला और उसने आगे आके अपने लंड को मेरी गांड से घिस दिया. लेकिन दुसरे ही सेकंड उसने उसे पीछे खिंच लिया. शायद वो डर रहा था. लेकिन मैं थोड़ी उसे कुछ कहने वाली थी. मैं तो चाहती थी की वो लंड मेरी चूत में आये और हमारी कामसूत्र कहानी बनें एक. मैंने फिर से बार को ऊपर किया और मुड के उसकी और देखा. मैंने हलके से स्माइल दी और वो मेरे करीब आया. अब की उसने लंड को गांड पे ही सटा दिया और हटाया नहीं. मुझे बहुत ही मजा आया उसके लंड को अपने पिछवाड़े पे महसूस कर के. मैंने अपनी कमर को थोड़ी हिलाई और अपनी गांड को जानबूझ के उसके लौड़े पे घिस दी. इस से तो वो और भी उत्तेजित हो गया. उसने बार को धीरे से ऊपर निचे करने में मेरी मदद की. और हम दोनों एक दुसरे के बदन को छू के घिस रहे थे. लंड का अंदाजा तो मुझे उसी वक्त आ गया था. जो हिसाब से वो मेरी गांड के एक लंबे हिस्से को रगड़ रहा था उसकी लम्बाई कम से कम 8 इंच थी. अब मेरे से रुका नहीं जा रहा था. मैं चाहती थी की उस लंड को गन्ने के तरह चूस लूँ और फिर उसे अपनी चूत में ले के उसके ऊपर उछल जाऊं जोर जोर से बस.

    राजकुमार अभी भी वेईटलिफ्टिंग की नौटंकी में लगा हुआ था. मैंने बार को निचे रखा और उसके लंड पे हाथ मारा. वो जैसे की भडक गया हो वैसे एक्टिंग करने लगा.

    मैं: अब खड़ा हो गया हैं तो इसे निकाल भी दीजिए मेरे सर.

    कामसूत्र में काला लंड

    राजकुमार हंस पड़ा और उसने अपनी ज़िप धीरे से खोली. बाप रे उसका लंड कैसा काला और मजबूत था जैसे इंग्लिश ब्ल्यू फिल्म्स वाले हस्बी का लंड. राजकुमार ने अपने लांद को हवा में झुलाया और मैंने अपने हाथ से उसे पकड़ के जोर से दबा दिया. राजकुमार ने मुझे गर्दन से पकड़ा और अपने होंठो को मेरे होंठो पे लगा दिए. वो मुझे एक जोरदार चुम्मा देने लगा और मैंने अपने हाथ से उसके लंड को पकड के जोर से मरोड़ दिया. अब मैं उसके लंड को जैसे मूठ मारने लगी. वो मुझे चूम रहा था और मैं हथेली से लंड को सहला रही थी. उसके लंड को ऐसा हिलाने से जैसे उसके अंदर और भी जान आ गई. वो तन के करीब 9 इंच का हो गया. राजकुमार ने अपना चुम्मा छोड़ा और मैं अपने घुटनों में जा बैठी. मैंने लंड के सुपाडे की किस्सी दी और उसके बड़े काले बाल्स को दबाने लगी. राजकुमार हाथ के सपोर्ट से खड़ा था और मैंने तभी मुहं खोल के उसे एक सुखद अनुभव करवाया. जैसे ही उसके लंड को मैंने अपने मुहं में डाला उसके चहरे के भाव एकदम से बदल गए. उसने एक लंबी आह निकाली और पीछे हटा थोडा.  मैं आराम से उसके लंड को चाटने और चूसने लगी. बड़े दिनों के बाद असली चमड़ा हाथ आया था मेरे और मैं उसे बड़े मजे से चूस रही थी जैसे की चोकोबार की केंडी.

    अब राजकुमार ने अपनी कमर को हिलाई और वो मेरे मुहं में ही लंड की झटके मारने लगा. मैं मुहं को पूरा खोल के भी उसके लंड को पूरा नहीं ले सकती थी मुहं में. वो मेरा मुहं ना फाड़ दे इसलिए मैंने राजकुमार की जांघे पकड के झटकों की तीव्रता थोड़ी कम की. मैं एक हाथ से उसके लंड को पकड के उसे चूस रही थी और दुसरे हाथ से उसकी जांघ को पकड़ी थी. मैंने उसके लंड को मस्त चूसा और फिर उसने मुझे कंधे से पकड के उठाया. मैंने जैसे ही उठी उसने मेरी ट्रेक पेंट को पकड के खिंचा. मैंने नाड़े को खोला और पेंट उतर पड़ी. मैंने अंदर लाल पेंटी पहनी थी जिस पे मस्त नेट का काम था. राजकुमार ने अपना हाथ पेंटी पे फेरा और धीरे से उसे सरका के चूत पे हाथ मारा.

    मेरी चूत पानी छोड़ चुकी थी और मैं लंड लेने के लिए बिलकुल रेडी थी. राजकुमार ने मुझे एक कोने पे ले जाके निचे झुकाया. पीछे से उसने गांड को धीरे से खोला. ऐसा करने से उसे मेरी चूत का छेद जरुर दिखा होंगा. उसने झुक के ढेर सारा थूंक दिया. फिर वो अपना लंड चूत पे ले आया और छेद पे सेट किया. अभी कुछ समझ पाती उसके पहले तो उसका 9 इन्चा लंड मेरी चूत में अपनी कामसूत्र एक्शन पे उतर आया. उसने एक ही झटके में आधे लंड को अंदर कर दिया. एक पल के लिए जैसे मेरी आवाज ही रुक गई. जैसे किसी ने चूत में लौकी डाल दी हो. पूरी एक मिनिट के बाद मेरी जान में जैसे की जान आई. राजकुमार ने तभी और एक झटके में चूत को तहसनहस कर दिया. उसका लंड जैसे चूत से आरपार हो के मेरे पेट में आ घुसा था. मैं निचे ही झुकी थी इसलिए टी-शर्ट के अंदर मेरी चुंचियां मस्त आगे उठ खड़ी हुई थी. दूसरी ही मिनिट राजकुमार का हाथ उनपे था और वो मेरी चूत के अंदर अपने लंड के झटके मारने लगा. मैं आह आह कर के उसके लंड की मस्ती के मजे लेती रही. दो मिनिट के बाद मुझे भी मजा आने लगा. मैं भी अपनी गांड को नचा के उसे साथ देने लगी. राजकुमार मुझे गांड पे चमाट लगाता हुआ चोद रहा था जिसका अपना ही एक अलग नशा था जैसे. उसका लंड तह तक जाके बहार आ रहा था और मैं उसे पूरा सपोर्ट करने में व्यस्त थी.

    अब उसके झटके भी बढ़ने लगे और मैं भी अपनी गांड को और जोर से हिलाने लगी. आह आह की आवाज से शायद वो और भी उत्तेजित हो रहा था. पुरे लंड को वो बहार निकाल के चूत में ठोकने लगा. मुझे मीठा मीठा दर्द हुआ उसके ऐसा करने से लेकिन मजा कुछ ज्यादा ही था उसमे. राजकुमार चूंचियों को मसल के जैसे उसका रस निकालना चाहता था. तभी उसने दोनों चुंचियां जोर से दबाई और उसका लंड जैसे चूत में ठहर गया. आह की आवाज से उसने मेरी चूत को भिगो डाला. मैंने चूत के मसल्स को कस लिए ताकि महंगी शराब की एक बूंद भी बहार ना आयें. राजकुमार ने लंड को चूत में दबाये रखा जब तक उसकी एक एक बूंद निकल नहीं गई. फिर उसने धीरे से लंड को चूत से निकाला और पेंट की ज़िप बंध की. मैंने भी अपने आप को कवर किया और उसे गले से लगा लिया.

    कहने की कोई जरुरत नहीं हैं की मैं उसी दिन से जिम में शाम को जाना शरु कर दिया. राजकुमार के साथ मेरा सबंध पिछले तिन साल से चल रहा था. हमने कामसूत्र के किसी भी आसन को बाकी नहीं रखा हैं. लेकिन कुछ समय पहले उसकी शादी हो गई और अब उसकी बीवी की चूत के आगे शायद मैं उतनी सेक्सी नहीं हैं. अगर किसी को मुझे चोदना हो तो मुझे kismisshaha@gmail.com पर एक ईमेल जरुर कर दें….! स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरुर करें…..!

    Add comment

    4 Comments to “जीम में हुआ कामसूत्र”

    Write a Reply or Comment

    Related videos

    No thumbnail available
    Typist ka Interview Lund se Liya 1 Likes
    216 Views
    No thumbnail available
    बड़े स्तन वाली सबीना के साथ ऑफिस सेक्स -[भाग 1] 1 Likes
    155 Views
    No thumbnail available
    मोना की सेक्सी चूत ऑफिस में चपरासी ने चोदी 2 Likes
    214 Views
    No thumbnail available
    मेरी चुदाई ऑफिस की लिफ्ट में 2 Likes
    189 Views
    No thumbnail available
    Dolly Ki Chut me Kaale Habsi ka 10 inch ka Lund 2 Likes
    230 Views
    error: Copy karnewalo ke lie ye option bandh kiya hai!